Khel Kitne Prakar Ke Hote Hain खेल कितने प्रकार के होते हैं ?

Khel kitne prakar ke hote hain खेल कितने प्रकार के होते हैं दोस्तों अगर आप यह जानना चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं |

आज मैं आपको इस पोस्ट में जेल के बारे में पूरी जानकारी दूंगा कि खेल कितने प्रकार के होते हैं और कौन-कौन सा खेल कहां और कब खेला सकते हैं |

जीवन में खेल बहुत जरूरी है खेल से मनोरंजन मिलता है हमारी सेहत ठीक रहती है और हम कभी बीमार नहीं पड़ते हर रोज खेलने से खाया हुआ अच्छे से पच जाता है इसके साथ ही शरीर में सुफुर्ती आती है खेल हमारे शरीर को मजबूत बनाता है और हमारा दिमाग तेज करता है |

Khel Kitne Prakar Ke Hote Hain

खेल कितने प्रकार के होते हैं Khel Kitne Prakar Ke Hote Hain

दोस्तों वैसे तो आपने बहुत सारे खेलों के नाम सुने होंगे पर मैं आपको यहां बताने वाला हूं कि खेल पांच प्रकार के होते हैं |

  1. बाहरी खेल तथा भीतरी खेल
  2. मुक्त खेल तथा संरचनात्मक खेल
  3. संवेदी-क्रियात्मक और प्रतीकात्मक खेल
  4. ओजस्वी खेल एवं शान्त खेल
  5. वैयक्क्तक खेल और सामूहिक खेल

Youtube Se Gana Kaise Download Karen यूट्यूब से गाना कैसे डाउनलोड करें

बाहरी खेल तथा भीतरी खेल

दोस्तों इसका पता आपको नाम से ही चल रहा होगा की बाहरी खेल और भीतरी खेल क्या है घर के अंदर खेले जाने वाले खेल को हम भीतरी खेल कहते हैं जैसे लूडो खेलना, कैरम बोर्ड खेलना, सांप सीडी खेलना, चोर सिपाही खेलना ये सभी भीतरी खेल कहलाते है |

बाहरी खेल यह वह खेल हैं जिन्हें हम घर से बाहर जाकर कहीं मैदान में खेलते हैं उन्हें हम बाहरी खेल कहते हैं जैसे मैदान में जाकर हॉकी खेलना, क्रिकेट खेलना, कबड्डी खेलना, खो खो खेलना, टेनिस खेलना, फुटबॉल खेलना यह सभी बाहरी खेल हैं

मुक्त खेल तथा संरचनात्मक खेल

कुछ खेल ऐसे होते हैं जिनके कुछ नियम होते हैं आसान भाषा में समझाऊं तो जिन खेलों का आयोजन किया जाता है या फिर बच्चों को कोई खेल खिलवा रहा है | जिसमें बच्चे अपनी मर्जी से नहीं खेलते उन्हें नियमों के अनुसार खेलना होता है ऐसे खेल को संरचनात्मक खेल कहते हैं |

जैसे बच्चों को बोला जाए चलो हम मिट्टी से कुछ बर्तन बनाते हैं या बाहर जाकर मिट्टी से खेलते हैं ऐसे खेल की मदद से बच्चे बहुत कुछ नया सीखने हैं जो उन्हें सिखाया जाता है वह आसानी से सीख जाते हैं |

दूसरी तरफ बच्चे अपनी मर्जी से मिट्टी के साथ खेल रहे हो और उन्हें कोई खिलाने वाला नहीं हो यानी कि अपनी मर्जी से खेले जाने वाला खेल मुक्त खेल कहलाता है | इस प्रकार के खेल से भी बच्चे हर रोज कुछ नया सीखते हैं |

संवेदी-क्रियात्मक और प्रतीकात्मक खेल

जब बच्चा बिल्कुल छोटा होता है तब वह किसी वस्तु को सुघता है छूता है या चक्ख कर देखता है सकता है इन सभी क्रियाओं में इंद्रियां और मांसपेशियां कि समन्वय की जरूरत होती है इसलिए इन्हें संवेदी-क्रियात्मक खेल कहा जाता है |

जब बच्चे थोड़े बड़े होते हैं तब वह लोगों की भूमिका निभाते हैं नाटक करते हैं जैसे डॉक्टर बनना मास्टर बनना दुकानदार बनना या किसी दूसरे की कॉपी करके नाटक करना यह सभी खेल प्रतीकात्मक खेल कहलाते हैं |

ओजस्वी खेल एवं शान्त खेल

दोस्तों कई बार आपने देखा या सुना होगा घर के सदस्य बच्चों पर चीखते हैं और कहते हैं बच्चों तुम एक जगह बैठकर नहीं खेल सकते क्या मतलब जब बच्चे उछल कूद करते हैं इधर-उधर भागते हैं कूदने या उछलने वाला खेल खेलते हैं जिनमें अधिक उर्जा लगती है उन्हें हम ओजस्वी खेल कहते हैं |

और कुछ ऐसे खेल जिन्हें खेलने में शरीर की ऊर्जा कम लगती है या अधिक शारीरिक क्रिया ना लगे जैसे पेंटिंग बनाना, जमीन पर चौक से कुछ लिखना, मिट्टी के बर्तन बनाना, पत्थर से कुछ बनाना इन सभी खेल में शरीर की ज्यादा ऊर्जा खर्च नहीं होती इसलिए इन्हें शांत खेल कहा जाता है |

वैयक्क्तक खेल और सामूहिक खेल

जब बच्चा अकेला खेलता है चाहे वह घर में खेले या फिर बाहर खेले ऐसे खेल को व्यक्तिगत खेल कहते हैं 3 या 4 साल के बच्चे अकेले खेलना पसंद करते हैं जब बच्चे थोड़े बड़े हो जाते हैं तब वह दूसरों के साथ खेलना सीखते हैं |

जब बच्चा एक से अधिक दो चार छे बच्चों के साथ खेलता है तो उसे हम सामूहिक खेल कहलाता है |

आप विकी पीडिया की ये पोस्ट भी पढ़ सकते है | खेल द्वारा शिक्षा

Youtube Delete Kaise Karen | यूट्यूब एप्प डिलीट कैसे करे

अंतिम शब्द

दोस्तों आज मैंने आपको इस पोस्ट Khel kitne prakar ke hote hain में खेल के बारे में जानकारी दी कि खेल कितने प्रकार के होते हैं अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई तो इस पोस्ट को लाइक करें और इस पोस्ट के बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं हम आपको जल्द ही रिप्लाई देंगे मिलते हैं एक नई पोस्ट में तब तक के लिए वंदे मातरम

Hi, I am Krrish Inkhiya a part-time Blogger,Youtuber,Affiliate Marketer and founder of Godsunsat.com,Here,I post about tech,tips,internet,banking etcs,

अपनी प्रतिक्रिया दें।